हमें चाहने वाले मित्र

04 जनवरी 2017

में भी अजीब हूँ ,,

में भी अजीब हूँ ,,मेरी कॉम के अपने लोग ,,,जो किसी भी सियासी पार्टी के हो ,,त्योहारो ,,ख़ुशी ,,गम के माहौल में ,,में उनसे मिले बगेर,, नहीं रहता ,,उनकी खुशियो में ,,उन्हें मुबारकबाद दिए बगेर,,, नहीं रहता ,,यहां तक के ,,मेरी कॉम के भाइयो को ,,अगर किसी भी सियासी पार्टी ,,फिर चाहे वोह,,, मेरी अपनी सियासी पार्टी ही क्यों न हो ,,,,उनके द्वारा उपेक्षित ,,अपमानित किया जाए ,,,तो में टोके बगेर नहीं रहता ,,बस इसीलिए,,, कुछ नाबालिग लोग ,,कुछ फूल छाप,,, मेरी पार्टी के मुस्लिम विरोधी लोग ,,ऐसे लोग ,,,जो हमारी कॉम को भड़का कर ,,,अलग अलग हिस्सो में करते है ,,कमज़ोर करते है और फिर,,, उन पर राज करते है ,,उनसे दरी ,,पट्टियां बिछवाते है ,,टिकिट का नम्बर हो ,,पद देने का नम्बर हो तो पलटी खा जाते है ,,ऐसे सभी लोगो की आँख की में किरकिरी बना हूँ ,,अभी आदरणीय राहुल गांधी साहिब बारां में आये ,,राहुल जी की बेस्ट परफॉर्मेंस रही ,,लेकिन कटटरपंथी,,, मुस्लिम विरोधी लोगो ने ,,,मंच पर सो में से सो वोट देने वाले,,, इस समाज के प्रतिनिधित्व की,,, उपेक्षा की ,,राहुल जी द्वारा , सोनिया जी द्वारा,,, बनाये गए ,,,इस समाज को,, हक़ दिलवाने के लिए ,,,बनाये गए संगठन,,, विभाग के मुखिया को भी,,, मंच पर नहीं बिठाया ,,उपेक्षित रखा ,,हमारी अपनी ज़िम्मेदारी थी ,,,हमने निभा दी ,,हज़ारों हज़ार लोग पहुंचे ,,यहां तक के ,,हमारे समाज के बारां प्रभारी तक को ,,,मंच पर नहीं बुलाया ,,जो लोग गुलाम थे ,,जो लोग नहीं चाहते ,,,के हमारी पार्टी ,,एक जुट हो ,,अटूट हो ,,और भारी बहुमत से चुनाव में जीते ,,उन्होंने ,,,यह जान बुझ कर ,,,सो में से सो वोट,,, देने वाले समाज के साथ ,,सो में से सो वोट देने वाले,,, इस समाज के साथ,,,यह उपेक्षा का रुख अपनाया ,,एक वरिष्टतम ,,मेरे समाज के,,, एक मर्द पार्टी के,, जांबाज़ सिपाही से ,,जब पूंछने लगे ,,के कार्यक्रम केसा रहा ,,मेरे जांबाज़ साथी ने ,,पूर्व सांसद वरिष्ठ से आँखों में आँखे मिलाकर कहा ,,सब ठीक बस ,,हमारे समाज का प्रतिनिधित्व ,,उपेक्षित रखा गया ,,इसका सन्देश ,,, नीचे बैठे लोगो में सही नहीं गया ,,यह उपेक्षा भविष्य में न हो ,,इसका हमे ध्यान रखना होगा ,,बस समाज के हक़ की बात की ,,तो यह कट्टर पंथी फूल छाप,, मेरी पार्टी के फूल ,,नाराज़ हो गए ,,कहने लगे ,,तुम पार्टी के विचारधारा के नहीं लगते ,,,मेरे जांबाज़ साथी ने ,,आँखों में आँखे मिलाई ,,कहा ,,,हाँ में आपकी पार्टी ,,,जो ,,,हमारी पार्टी में हमारे वोट से चुनाव जीतकर हम पर गुर्राते है ,,हमारा हक़ मारते है ,मौक़ा मिलने पर,, दूसरी पार्टियों में जाते है ,,फिर वापस से ,,हमारी पार्टी में आजाते है ,,ऐसे हम नहीं ,,मेरे भाई ने कहा,, हम ,,कोंग्रेस संविधान पर चलने वाले ,,राहुल गान्धी ,सोनिया गांधी ,,,राजीव गान्धी ,,इन्द्रा गांधी के सिद्धांतो पर चलने वाले ,,सच्चे सिपाही है और रहेंगे ,,मेरे इस जांबाज़ भाई ने ,,इन वरिष्ठ सुविधा भोगी,, भाईसाहब का मुंह सूंघा ,,कहा ,,आपने शराब पी रखी है ,,आप कोंग्रेसी कहा हो ,,कोंग्रेस का सदस्य तो ,,,सिर्फ वही होगा,, जो शराब तो क्या ,,,किसी भी तरह का नशा ,,,नहीं करता होगा ,,,मेरे भाई ने इन जनाब को और भी कई कमिया गिनाई ,,,,,खेर मुझे पता है ,,कॉम के इंसाफ ,,कॉम की बराबरी की बात ,,पार्टी में कॉम के हक़ की बात,, करने पर ,,में सचमे ,,सभी की आँख की किरकिरी हूँ,, लेकिन मुझे परवाह नहीं ,,में सिर्फ और सिर्फ,, मेरे खुदा से डरता हूँ ,,,जो विनम्र संविधान ,,जो विनम्र धर्मनिरपेक्ष,, बराबरी के दर्जे वाले ,,सिद्धान्त राहुल गाँधी ,,सोनिया गान्धी ,,इन्द्रा गांधी ,,,राजीव गांधी ने हमे दिए है,, उन को अंगीकार करता हूँ ,,मेरे एक भाई ,,,जो सरकार में,,, एक पद मिला ,,मेने उन्हें मुबारकबाद दी ,बस एक नाबालिग भाई कहते है यह गलत है,, यह तो भाजपा के है ,,कैसे कमज़र्फ़ है यह लोग,,, इन्हें पता नहीं ,,यह क्या कर रहे है ,,चुनाव के वक़्त ,,वोट निकालने के वक़्त ,,वोट मांगने के वक़्त ,,पार्टी की लड़ाई लड़ने के वक़्त,,, यह लोग लापता रहते है और जब ,,,सरकारें आती है,, तो कंगूरे बनने के लिए,, आतुर हो जाते है ,,भाइयो में तो कांग्रेस की रीती ,,नीति ,,सिद्धान्त ,,अल्पसंख्यक ,,दलितों को ,, उनका हक़ दिलवाने वाली कोंग्रेस पार्टी का सिपाही हूँ ,,रहूंगा ,,लेकिन जो अलग अलग पार्टियों से,,कई पार्टियां बदल कर आये है ,,आगे भी बदलेंगे ,,उनसे मेरी इल्तिजा है ,, प्लीज़ ,,,मेरे इस संगठन में ,,,धर्मनिरपेक्ष रूप ,,बराबर के हक़ का स्वरूप ,,जीवित रहने दो ,,मेरे इस संगठन में ,,दलितों ,,अल्प संख्यको के,,, सो में से सो वोट ,,, हमेशा मिलते रहने पर ,,,,ईदंरा जी ने,,, इन समाजो को बराबर का दर्जा देकर इन्साफ देने के लिए,, जो व्यवस्थाएं बनाई है ,,,जो विभाग ,,जो प्रकोष्ठ,, बनाये है ,,उनका सम्मान कम कर ,,इन्द्रा जी ,,राजीव जी ,,सोनिया जी के सिद्धांतो ,,,का अपमान मत करो ,,तुम्हारा क्या ,,तुम तो फिर हमेशा की तरह ,,,पार्टी बदल कर चले जाओगे ,,लेकिन हमे तो इसी पार्टी में रहना है ,इसी पार्टी को हमने सींचा है , , हमे इसी पार्टी को ,,ज़िंदाबाद करना है ,,लेकिन,, इसी पार्टी में लड़कर,, हम हमारा हक़ भी लेंगे ,,और पार्टी को दीमक बनकर ,,,जो लोग चाट रहे है ,,,जो अवसरवादी लोग ,,हमारे समाज को उपेक्षित कर रहे है ,,,,जो लोग हमारा हक़ मार रहे है ,,जो लोग हमे मियांजी कहकर सम्बोधित कर रहे है ,,,,,उनसे भी हम लड़ेंगे ,,,अपने भाइयो से गले भी मिलेंगे ,,उन्हें उनकी खुशियो में मुबारकबाद भी देंगे ,,,,,अख्तर खान अकेला कोटा राजस्थान

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

दोस्तों, कुछ गिले-शिकवे और कुछ सुझाव भी देते जाओ. जनाब! मेरा यह ब्लॉग आप सभी भाईयों का अपना ब्लॉग है. इसमें आपका स्वागत है. इसकी गलतियों (दोषों व कमियों) को सुधारने के लिए मेहरबानी करके मुझे सुझाव दें. मैं आपका आभारी रहूँगा. अख्तर खान "अकेला" कोटा(राजस्थान)

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...