हमें चाहने वाले मित्र

09 मार्च 2016

संसद: मोदी ने कहा- कांग्रेस को मृत्यु जैसा वरदान मिला है, वह बदनाम नहीं होती



संसद: मोदी ने कहा- कांग्रेस को मृत्यु जैसा वरदान मिला है, वह बदनाम नहीं होती
नई दिल्ली. नरेंद्र मोदी ने बुधवार को संसद में फिर कांग्रेस पर निशाना साधा। राज्यसभा में दी स्पीच की शुरुआत में कहा, ‘मृत्यु कभी बदनाम नहीं होती। कांग्रेस को भी मृत्यु जैसा वरदान मिला है। कांग्रेस बदनाम नहीं होती।’ आखिर में बड़े मुद्दों पर अपोजिशन से सपोर्ट की अपील की। निदा फाजली की एक शायरी पढ़ी- ''यहां किसी को कोई रास्ता नहीं देता, मुझे गिराके अगर तुम संभल सको तो चलो।'' ऐसा था राज्यसभा में मोदी का अंदाज...
- संसद के बजट सेशन में राष्ट्रपति की स्पीच पर धन्यवाद प्रस्ताव के तहत चर्चा हुई थी।
- मोदी ने इस चर्चा का बुधवार को राज्यसभा में जवाब दिया।
- कहा- ''मृत्यु कभी बदनाम नहीं होती। कांग्रेस को ऐसा ही वरदान मिला है। कांग्रेस को बदनामी नहीं मिलती। शरदजी या मायावती का नाम लें तो जेडीयू ओर बीएसपी पर हमला कहा जाता है। कांग्रेस का कभी नाम नहीं आता।''
- आखिर में निदा फाजली का शेर पढ़ा...
''सफर में धूप तो होगी, जो चल सको तो चलो।
सभी हैं भीड़ में, तुम भी निकल सको तो चलो।
किसी के वास्ते राहें कहां बदलती हैं।
तुम अपने आपको खुद ही बदल सको तो चलो।
यहां किसी को कोई रास्ता नहीं देता।
मुझे गिराकर अगर तुम संभल सको तो चलो।
यही है जिंदगी, कुछ ख्वाब, चंद उम्मीदें।
इन्हीं खिलौनों से तुम भी बहल सको तो चलो।''
राज्यसभा में मोदी सरकार को झटका

- राज्यसभा में मोदी सरकार को झटका लगा है। पीएम मोदी की अपील के बावजूद अपोजिशन ने प्रेसिडेंट के अभिभाषण पर अपना अमेंडमेंट प्रपोजल वापस नहीं लिया और उसे पास करा लिया।
- गुलाम नबी आजाद ने पंचायतों में चुनाव लड़ने के लिए एजुकेशनल क्वालिफिकेशन को जरूरी न बनाने की बात राष्ट्रपति के अभिभाषण में जोड़ने का अमेंडमेंट दिया था।
- वोटिंग के दौरान सदन ने इसे 61 के मुकाबले 94 वोटों से इसे मंजूर कर लिया।
- बता दें कि राज्यसभा में मोदी सरकार बहुमत में नहीं है। इसी के चलते विपक्ष ने सरकार की बात नहीं मानी और अपना अमेंडमेंट प्रपोजल बरकरार रखा।
- लगातार दूसरे साल अपोजिशन राष्ट्रपति के अभिभाषण पर अमेंडमेंट लाया और उसे पास करा लिया।
- पिछली बार सीपीएम का एक अमेंडमेंट वोटिंग के जरिए पास हुआ था।
- यह पांचवां मौका है जब राज्यसभा में इस तरह का अमेंडमेंट मंजूर हुआ है।
मोदी ने कहा- सभी सदस्यों ने राष्ट्रपति की बात मानी...
- मोदी ने कहा- ''राष्ट्रपति के अभिभाषण में एक बात जो कही गई थी, उसका इतना सकारात्मक प्रभाव तुरंत हुआ। यह बात हमें प्रसन्न करती है।''
-'' राष्ट्रपति की बात को शिरोधार्य किया। इसके लिए विपक्ष के सभी साथियों को धन्यवाद।''
- ''सभी से अाग्रह करूंगा कि समयसीमा में जितने विषय आ सकें हैं, वो महत्वपूर्ण हैं। धन्यवाद प्रस्ताव पारित किया जाना चाहिए।''
- ''देर रात तक बैठने के बाद भी जिन सदस्यों से मैं मिला वे सभी आनंदित थे। ये सदन चलने के कारण संभव हुआ है।''
- ''क्वेश्चन ऑवर सदन और सदस्यों की संपत्ति है। पिछली बार सदन नहीं चल सका था।''
- ''इस बार हमारे अनुभव ने हमें बचा लिया। मंत्रियों को देर रात तक काम करना पड़ रहा है और अफसरों को भी। यह लोकतंत्र के लिए अच्छी बात है।''
'माइक्रोस्कोप लेकर खोजी जा रही है मेरी गलतियां'
- ''15 लाख करोड़ के ये 300 प्रोजेक्ट 20 साल से अटके हुए थे। जैसे एन्वायर्नमेंट में दिक्कतें हुईं। रेलवे की टेंडर प्रक्रिया को जोनल मैनेजर के हवाले कर दिया है।''
- ''केवल एक हजार करोड़ रुपए से ऊपर के प्रोजेक्ट के बारे में कैबिनेट फैसला करेगी।''
- ''माइक्रोस्कोप नहीं बाइनोकुलर लेकर काम किया होता तो आज मुझे मेहनत नहीं करना पड़ती।''
- ''अगर कांग्रेस काम करती तो जनधन योजना की जरूरत ही नहीं पड़ती।''
मोदी ने बताया- क्यों खत्म की जा रही है टारगेटेड सब्सिडी?
- ''चंडीगढ़ में सब सुविधाएं होने के बावजूद 30 लाख लीटर कैरोसिन जाता था। इसका उपयोग पूंजीपति करते थे। ये टारगेटेड सब्सिडी होने से करोड़ों रुपए की सब्सिडी बचेगी।'' (सीताराम येचुरी ने मुद्दा उठाया था)
- ''सब्सिडी सही लोगों को मिलना चाहिए। गुलाम नबी ने केवल वो लोग खोजे जो जनधन में शामिल नहीं हो पाए।''
30 साल बाद भी गंगा गंदी क्यों?
- ''गंगा सफाई के बारे में आप कहेंगे कि ये तो हमने शुरू किया। अगर क्रेडिट लेंगे तो ये भी बताना पड़ेगा 30 साल में क्या किया?''
- ''दुनिया में दो तरह लोग होते हैं। एक वो जो कार्य करते हैं और दूसरे वो जो श्रेय लेते हैं।''
'चुनावी राज्यों में 30 फीसदी अनपढ़ लोगों को टिकट दिए जाएं'
- ''गुलाम नबी आजाद ने चेन्नई की घटना का जिक्र किया। राजस्थान और हरियाणा ने कुछ चुनावी नियम बनाए हैं। सुप्रीम कोर्ट ने इन्हें पास किया है। लेकिन जो अशिक्षित रहे, उनका क्या?''
- ''पांच राज्यों में जो चुनाव हो रहे हैं, उनमें 30 फीसदी अनपढ़ लोगों को टिकट दिए जाएं।''
- इस दौरान उन्होंने सीनियर मेंबर्स के हंगामे पर चुटकी ली। कहा,'' पहले आकाशवाणी पर एक कार्यक्रम चलता था। भूले-बिसरे गीत। कुछ लोगों का टैन्योर खत्म हो रहा है। इसलिए भूले-बिसरे सुर सुनाई दे रहे हैं।''
- ''इस सदन में महाजन बैठे हैं। इसका असर सब जगह होता है। ऐसा माहौल बनाएं जो लोकतंत्र को पुष्ट करे।''
कहा- राज्यसभा पास करे बिल
- ''लोकसभा ने तो कई बिल पारित कर दिए हैं। लेकिन यहां अटके हैं। प्रार्थना करता हूं कि यहां के सदस्य भी इन्हें पारित करें।''
- ''देश को जीएसटी बिल पास होने का इंतराज है। लोकसभा ने इसे पास कर दिया है।''
करप्शन को लेकर क्या कहा?
- मोदी ने कहा,'' लंबे समय तक कुछ लोग सत्ता में रहे हैं। हमें भी मौका मिला है। हमारे आने से पहले विश्वास टूट चुका था। भ्रष्टाचार और भाई भतीजावाद का जोर था।''
- ''ट्रांसपेरेंसी पर जोर दिया। इंडिविजुअल नहीं, पॉलिसी के बेस पर देश चलना चाहिए। कोयला ऑक्शन किया, एफएम रेडियों में भी गए।''
- ''फोर्ब्स मैगजीन कहती है- भारत ने पहली बार गोल्ड माइन का ऑक्शन किया। कोयला आवंटन में 3.33 लाख करोड़, स्पेक्ट्रम में एक लाख करोड़ सरकार ने जुटाए हैं।''
-'' पिछले दिनों करीब 300 प्रोजेक्ट को मैंने खुद रिव्यू किए। अब ये चालू हो गए हैं।''
बुधवार को संसद में और क्या हुआ...
- यमुना किनारे होने वाले आर्ट ऑफ लिविंग के प्रोग्राम को लेकर बुधवार को संसद में हंगामा हुआ।
- राज्यसभा में जेडीयू के शरद यादव और सीपीएम के सीताराम येचुरी ने प्रोग्राम कराने की मंजूरी दिए जाने पर सवाल किया। येचुरी ने कहा कि एक निजी संस्था के लिए आर्मी को कैसे काम पर लगाया जा सकता है?
- इस बीच, संगठन के फाउंडर श्रीश्री रविशंकर ने ट्वीट कर कहा कि प्रोग्राम पर राजनीति न हो।
इस प्रोग्राम पर सरकार का क्या कहना है...
-बुधवार को राज्यसभा में अपोजिशन के हंगामे के बाद सरकार ने आर्ट ऑफ लिविंग का सपोर्ट किया।
- सरकार की ओर से मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा कि श्री श्री की संस्था खुद एन्वायर्नमेंट फ्रेंडली है।
- अरुण जेटली ने कहा कि मामले की सुनवाई एनजीटी में है, इसलिए यहां इस पर बहस नहीं की जा सकती। अपोजिशन इस पर चर्चा चाहता था।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

दोस्तों, कुछ गिले-शिकवे और कुछ सुझाव भी देते जाओ. जनाब! मेरा यह ब्लॉग आप सभी भाईयों का अपना ब्लॉग है. इसमें आपका स्वागत है. इसकी गलतियों (दोषों व कमियों) को सुधारने के लिए मेहरबानी करके मुझे सुझाव दें. मैं आपका आभारी रहूँगा. अख्तर खान "अकेला" कोटा(राजस्थान)

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...